Ek Bharat Shreshtha Bharat : MOU exchange on 21st January 2016

प्रधानमंत्री की ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ योजना 
छत्तीसगढ़ और गुजरात के बीच कला-संस्कृति, खेल-कूद,  पर्यटन के आदान-प्रदान के लिए हुआ एमओयू
छत्तीसगढ़ के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री दयाल दास बघेल की उपस्थिति में हुए एमओयू पर हस्ताक्षर
EBSB - Mou Handover
         रायपुर, 21 जनवरी 2017/ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ के तहत छत्तीसगढ़ और गुजरात राज्यों के बीच कला, संस्कृति, खेल, पर्यटन आदि के आदान-प्रदान का सिलसिला अब जल्द शुरू हो जाएगा। इसके लिए आज दोनों राज्य सरकारों के बीच गुजरात के ढोढा शहर में एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। छत्तीसगढ़ के पर्यटन और संस्कृति मंत्री श्री दयाल दास बघेल तथा गुजरात के वन एवं पयर्टन मंत्री श्री गनपत सिंह वासवा तथा गुजरात के खेल , युवा और संस्कृति मंत्री श्री राजेन्द्र त्रिवेदी के बीच एमओयू के दस्तावेजों का आदान-प्रदान हुआ।
गुजरात के ढोढा शहर में केन्द्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री महेश शर्मा, केन्द्रीय खेल एवं युवा मामले के मंत्री श्री विजय गोयल की विशेष उपस्थिति में तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू हुआ। सम्मेलन के शुभारंभ अवसर पर छत्तीसगढ़ और गुजरात के बीच दोनों राज्यों की कला, संस्कृति, खेल, पर्यटन आदि के आदान-प्रदान के लिए एमओयू किया गया। छत्तीसगढ़ और गुजरात की कला, संस्कृति के आदान-प्रदान के लिए विस्तृत कार्यक्रम बनाने आज दोनों राज्यों के प्रतिनिधि मंडलों की एक बैठक भी आयोजित की गई।  बैठक में वर्ष 2017 में साल भर दोनों राज्यों के बीच होने वाले कार्यक्रमों का मसौदा तैयार किया गया। एमओयू के अनुसार साल भर छत्तीसगढ़ और गुजरात की कला, संस्कृति एवं खेल से जुडे़ कार्यक्रम एक-दूसरे राज्यों में आयोजित किए जाएंगे, ताकि दोनों राज्यों की जनता भिन्न-भिन्न कला, संस्कृति और पर्यटन की विशेषताओं और आकर्षणों को समझ सकें। गुजरात के ढोढा में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन कल 22 जनवरी तक चलेगा। सम्मेलन में छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल के प्रबंध संचालक श्री एम.टी. नन्दी और संचालक संस्कृति एवं पुरातत्व श्री आशुतोष मिश्रा भी उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ योजना के अंतर्गत वर्ष 2017 के लिए छत्तीसगढ़ के साथ गुजरात राज्य की जोड़ी बनाई गई है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश के विभिन्न राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की कला, संस्कृति, पर्यटन, भाषा-बोली, खेल-कूद आदि को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से इस योजना की शुरूआत की है।